हास्यमेव जयते : मजदूर को सपने कहा आते… #मजदूर_दिवश

क्या कहा आपने मजदूर अपने सपने की आहूति देता है तब जाकर अन्य लोगों के सपने पूरे होते है. सरकार गुस्ताखी माफ करें. मजदूर वो होता है जो मजे से दूर होता हैै. आमतौर पर जो मजदूर होता है वह पहले तो सपने देखने की हिमाकत  ही नही करता क्यों कि मजदूर के सपने पूरे होने के लिए नही होते. आप ही बतायें भला कौन ऐसा मजदूर होगा जो मजदूरी छोडकर पहले सपने देखे फिर उन देखे हुए सपनों की आहुति देकर किसी दूसरे के सपने पूरे करे. मानो मजदूर मजदूर न हुआ लालकृष्ण आणवानी हो गया.

साहब जी ! मजदूर जन्म से मजदूर पैदा होता है और जब तक मर न जायें मजदूर ही रहता है. जागते हुए सपने देखना तो मुहावरा है दरअसल सचमुच के सपने देखने के लिए कम्बख्त नींद आनी बहुत जरूरी है और ये निद्रा महारानी भी तभी आती है जब पेट भरा हो. वरना खाली पेट तो जम्हाई भी नही आती. हमारे एक मित्र कहा करते है कि किराये के कमरे में सपने भी किराये के आते है. अब आप सोचिये जो दिन भर मजदूरी कर के फुटपाथ पर सो जाते है उनको सपने किस तरह के आते होंगे. किसी चबुतरे पर मौसम की मार सहने के बाद सुबह उठने पर सबसे पहले अपने बच्चों के लिए शाम की रोटी की चिन्ता सताने लगती है बेचारा सपने की आहुति देने के पहले रोटी का जुगाड तलाशने निकल पडता है. मजदूर कठिन परिश्रम के बाद, घर वापसी पर कभी कभी बच्चों से नजरे मिलाने से भी कतराने लगता है. मुनव्वर राणा कहते है-
शहर की फिरकापरश्ति को वबा खा जाती है।
ये बुजुर्गो की कमाई दासता खा जाती है।
अपने घर में सर झुकाए इसलिए आता है वो
इतनी मजदूरी तो बच्चों की दवा खा जाती है।।

ये सच है कि ताजमहल, अजन्ता, एलोरा, ताज होटल से लेकर संसद भवन तक ये सब इन्ही मजदूरो के खून पसीने से बने है लेकिन ये कभी इनके सपने में नही आते। इनके सपने में आती है रोटी। जिसकी आहूति ये अपने बिमार लाचार परिवार को जीवित रखने के लिए देते है। जिनके घर के चूल्हे कई कई दिनों तक ठण्डे पडे रहते  हो, भगोना खाली रहता हो, उनके सपने कितने नशीले होते होगें। इन सूने आॅखों के सपनो की आहूति जो लेती होगी वो आॅखें कितनी नशीली होगी। मजदूर इतना भोला होता है कि वह किसी विकास के विषय में ठीक से नही जानता। वह रैली में भीड के रूप में मिलता है। मंचो कों सजाने का काम करता है जिस पर से बडे बडे हुजूर अखबारों में फोटो छपवाने के लिए भाषण देते है। मजदूर दिन भर की मजदूरी ठीक से देख नही पाता वो सपने क्या खाक देखता होगा। इसके के विषय में अदम गोण्डवी कह चुके है कि-
कि नंगी पीठ हो जाती है जब हम पेट ढॅकते है
मेरे हिस्से की आजादी भिखारी के कबा सी है।
कभी तकदीर की गर्मी से चूल्हा जल नहीं सकता
यहाॅ वादों के जंगल में सियासत बेहया सी है।।

सुनो ऐ दुनिया के मजदूरों
क्या तुम्हे पता है …..
आज मजदूर दिवस है .
शायद नही पता होगा तुम्हे
तुम्हे फुर्सत ही कहाँ है —
इन बेकार के झमेले मे पड़ने की
जैसे होते हैं आजकल ढेरों दिवस ‘–
मातृ दिवस पितृ दिवस
महिला दिवस मित्र दिवस
वगैरह वगैरह –‘
कुछ बनावटी अंदाज मे
इन दिवसो मे फूल दिए और लिए जाते हैं
उपहारों का भी होता है
आदान और प्रदान
ऐसे ही आज तुम्हारा दिवस है
“मजदूर दिवस “
पर तुम्हे इन सबसे क्या सरोकार
तुम दिखावटी और बनावटी थोड़े न हो
तुम तो हकीकत मे जीवन जीते हो
इसी को तो कहते है जीना
जब जीने के लिए बहाया जाता है
कड़कती धूप मे पसीना
मेहनत की रोटी का स्वाद
होता है निराला
जो शायद नही मिलता होगा
फाइव स्टार होटलों में
और यह स्वाद तुम ही चख पाते हो
जिसमे मेहनत का मसाला
और पसीने का नमक मिला होता है
तभी तो कमजोर तन हो कर भी
मजबूत मन और हौसला रखते हो
और निकल पड़ते हो कड़ी धूप मे
मेहनत की रोटी कमाने
एयर कंडीशंड कमरे मे बैठे
ये बनावटी पुतले क्या जाने
तुम्हारी अहमियत और तुम्हारा अस्तित्व
कुंद हो गई है शायद उनकी बुद्धि
तभी तो यह बात उन्हे समझ नही आती
जिस व्हील चेयर पर वे बैठे हैं
वह तुमने बनाई है
जिस आलीशान भवन मे वे रहते है
वह तुमने ही बनाया है
उनके चारों ओर फैली सुख सुविधा की
वजह भी तुम हो
क्या हुआ जो तुम मजदूर हो
गर्व करो खुद पर
कि तुम रिश्वत या काली कमाई नही
बल्कि मेहनत की खाते हो
वह जीना ही क्या
जो गैरो के दम पर जिया जाए
जीना तो वह जीना है
जो खुद के दम पर जिया जाए
इसलिए मत करना मलाल
कि तुम मजदूर हो या मजबूर हो
फख्र करो खुद पर
कि सबकी शानो-शौकत
सुख और सुविधा की वजह तुम हो
तुम लेते नही देते हो
और लेने वाले से देने वाला
हमेशा बड़ा होता है ।

Facebook Comments

Be the first to comment on "हास्यमेव जयते : मजदूर को सपने कहा आते… #मजदूर_दिवश"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*