गया जिलाधिकारी ने जाना टिकारी किला का इतिहास! आप भी जाने…

गया शहर स्थित ऐतिहासिक व पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित टिकारी किला का भ्रमण डीएम ने किया। 

डीएम ने किला के इतिहास को जाना।

डीएम ने किला की जीर्ण-शीर्ण अवस्था पर वहां के पंडित जी से कई सवाल किये. पंडित ने टिकारी किला के इतिहास की जानकारी देते हुए बताया कि 1957 से यहां कोई नहीं रहता. किला की सुरक्षा के लिए चारों तरफ बनाये गए रकवा, मुख्य किला से तालाब को जोड़ने तथा आपातकाल में टिकारी से रामेश्वर बाग पंचानपुर तक जाने वाले सुरंगनुमा रास्ता के बारे में बताया. रानी का शृंगार घर, कारागार, नाच घर, मुख्य गेट पर सुरक्षा के तत्कालीन इंतजाम के बारे में भी डीएम को बताया. पंडित ने बताया कि देखरेख के आभाव में किला की स्थिति खराब हो गई. डीएम ने किला के चारों ओर स्थित रकवा का भी जायजा लिया.

ताला तोड़ दिखाया गया भवनटिकारी. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लाखों रुपये खर्च कर बनाया गया अस्थायी अनुमंडलीय व्यवहार न्यायालय का निरीक्षण जिला जज ने किया. भवन में बनाये गए इजलास, न्यायाधीश कक्ष व रेकर्ड रुम को देखा. भवन में गंदगी व झोल का अंबार लगा हुआ था. भवन की चाभी नहीं रहने की वजह से ग्रिल का ताला तोड़ा गया. जिसके बाद जिला जज व डीएम अंदर जा सके.

Be the first to comment on "गया जिलाधिकारी ने जाना टिकारी किला का इतिहास! आप भी जाने…"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*