मोक्ष दिलवाने वाली गया कि फल्गु नदी अपने हालात पर रो रही है

अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए दुनियाभर में मशहूर गया जिला का पवित्र नदी फल्गु नदी अपने बुरे हालात पर खुद रो रही है

एक तरफ लोगों का मानना है कि फल्गु नदी में पिंडदान करने से आत्मा को मोक्ष प्राप्त होती है वहीं दूसरी तरफ फल्गु अपने अस्तित्व को लेकर रो रही है।

नदी से नाला बना फल्गु

फल्गु नदी में ऐसे ही जल्दी पानी का बहाव देखने को नहीं मिलता, पूरे साल भर में 1 से 2 महिना ही फल्गु नदी में पानी का बहाव देखने को मिलता है। ऐसा माना जाता है कि मां सीता ने फल्गु को श्राप दिया था, इस कारण से फल्गु नदी में पानी का बहाव नहीं दिखता है (क्या श्राप दिया था यह आप Google कर चेक कर सकते हैं) पहले लोग गया कि फल्गु नदी में पिंडदान करने के लिए या छठ पूजा में भगवान सूर्य को अर्घ्य देने के लिए नदी में खुदाई करते थे और अंदर से जो साफ पानी निकलता था उससे पिंडदान किया करते थे या भगवान सूर्य का को अर्घ दिया करते थे। लेकिन अब फल्गु का इतना बुरा दिन आ गया है कि अब नदी में खुदाई करने के बाद भी अंदर से नाले का पानी निकलता है।

जब श्रद्धालु फल्गु नदी में उतरते हैं चाहे पिंडदान करना हो या विष्णुपद मंदिर परिसर से सीता कुंड जाने के लिए तब उनको नदी में बह रहे नाले के पानी से होकर गुजरना पड़ता है, और वह अपने आप को नाले के पानी में जाने के बाद अपवित्र मानने लगते हैं।

ऐसे में सोचिए जरा कि हमारे गया की छवि उन श्रद्धालुओं के बीच कैसी बन रही होगी जो देश और दुनिया के कोने-कोने से अपने पूर्वजों के आत्मा की शांति के लिए उतने दूर से चलकर हमारे यहां प्रार्थना करने आते हैं।

यह भी देखें? (आभार:- Etv Bihar Jharkhand)

 

Facebook Comments

Be the first to comment on "मोक्ष दिलवाने वाली गया कि फल्गु नदी अपने हालात पर रो रही है"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*