बिहार से दूर रहकर भी बिहारियों को जोड़ रहा है यह ‘बिहारी’!

आज हम आपको एक ऐसे बिहारी सख्स से रूबरू करने जा रहे हैं, जो खुद बिहार से लगभग डेढ़ हजार किलोमीटर दूर हैदराबाद में अपने जॉब के कारण कई सालों से रह रहे हैं परंतु उनके दिमाग में हमेसा अपना बिहार ही चलता रहता है। हम जिस सख्स की बात कर रहे हैं उनका नाम है मिस्टर रिशु राज।

कौन है रिशु ?

रिशु हैदराबाद में एक निजी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर व वेब डिजाइनर के तौर पर हैं। रिशु राज का जन्म गया जिला के गेवलबीगहा नामक स्थान पर हुआ।इन्होंने अपनी पूरी पढ़ाई गया जिला में अपने माता-पिता के साथ रहकर की। रिशु राज का पुरखैनि नवादा जिला के बीजू बिगहा में हैं। रिशु राज 10th और 12th बोर्ड की पढ़ाई D.A.V Public से पूरी करके इंजिनीरिंग में लग गए। उसके बाद रिशु राज अभी हैदराबाद में जॉब कर रहे हैं। इसी बीच उन्होंने कई स्टार्टअप भी सुरु किया।

रिशु घर और बिहार से दूर रहकर हमेसा हीं बिहार को मिस करते हैं, और ये अच्छी तरह जानते हैं जो लोग बिहार से दूर रहते हैं उनके लिए मुश्किल होता है सब कुछ करना। इस मुश्किल को थोड़ा भी दूर कर सकें इसके लिए LOVE BIHAR, BRAND BIHAR, Chhathimaiya.in, Apna Gaya इत्यादि जैसे फेसबुक पेज के साथ स्टार्टअप सुरु किया। जिससे घर से दूर रहने वाले बिहारियों को बिहार से जुड़ने और अपनापन मससुस करने का मौका मिलता है।

chhathimaiya.in सुरु करने का खास मकशद यह था कि बिहार में मनाया जाने वाला महापर्व छठ से पूरे देश भर के लोगों को जोड़ा जाए। साथ हीं कभी-कभी रिशु जी को वर्कलोड होने के कारण छठ पूजा में घर पहुंचने में मुश्किल होता था कभी-कभी नही भी आ पाते थे तो उन्होंने सोचा क्यों न एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनाया जाए जिससे बिहार से दूर रहने वाले बिहार भी छठ जैसे महापर्व का आनंद ले सकें, और देश भर के लोगों तक भी छठ पूजा का मैसेज पहुंच सकेगा। तभी इन्होंने बिहार के विभिन्न क्षेत्रों से लोगो को इकठ्ठा कर टीम तैयार करने लगे जिसमे कुछ क्षेत्रों से लोग जुड़े हैं और कुछ से अभी बाकी भी है।

नेचर की बात किया जाए तो कभी भी इन्होंने किसी को ना नही कहा होगा। खास तौर पर बिहार से जुड़ी कोई काम हो, हमेसा तत्पर रहते हैं लोगों की मदद के लिए।

Facebook Comments

Be the first to comment on "बिहार से दूर रहकर भी बिहारियों को जोड़ रहा है यह ‘बिहारी’!"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*